EGAP प्रधान शोधकर्ता: Eric Arias, Horacio Larreguy Arbesu
स्थान : मेक्सिको

Registration: 20150517AA

हस्तक्षेप करने की तारीख : मई 2015 - जुलाई 2015 (7 जून को चुनाव है )

पृष्ठभूमि: मेक्सिको 70 सालों की एकल-पार्टी सरकार के बाद, 1990 से बहुदलीय लोकतंत्र रहा है। जवाबदेही और पारदर्शिता बढ़ाने के लिए अनेक कदम उठाये गए है जिसके लिए ऐसे संघीय संस्थाओं का निर्माण हुआ जो स्वतंत्र और निस्पक्ष चुनाव (INE), सूचना एकत्रित करने की आज़ादी (IFAI), और सरकार के कामकाजों की विभिन्न स्तरों पर जांच पड़ताल करने की देखरेख (ASF) करती है। इन प्रयासों के बावजूद भ्रष्टाचार व्याप्त है और सार्वजानिक सेवाओं की पूर्ती ठीक ढंग से नहीं हो रही है। इसकी संभावित व्याख्या यह हो सकती है की मेक्सिको के वोटरों को अपने नेताओं के कामकाज के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती जो की चुनाव के माध्यम से जवाबदेही देने के लिए बहुत ही जरूरी है। इसके अलावा वोटरों की किस तरह से सूचना दे जाये जो उन्हें नेताओं को जवाबदेह ठहराने में ज्यादा समर्थ बनाये इसकी जानकारी बड़ी सीमित है। अलग अलग तरीको से जानकारी पहुँचाने के तरीको पर यह अध्धयन इस कमी को पूरा करेगा। मेक्सिको का यह उदहारण अन्य विकासशील देशों में भी लागु होगा, विशेषतया दक्षिणी अमेरिका के देशों में।

रिसर्च डिज़ाइन: हमारा रिसर्च डिज़ाइन फ़ैक्टोरियल है और ये दो आयामो पर भिनन्ता रखता है - मैसेज दे की विधि में (निजी बनाम सामाजिक)  और मैसेज के स्वरुप में (लोकल बनाम रिलेटिव).  जिस ट्रीटमेंट ग्रुप को मैसेज निजी ढंग से दिया जायेगा उसमे गड़नाकार (enumerator) उत्तरदाताओं के घर जाकर उन्हें पर्चे के जरिये जानकारी देंगे।  जिस ट्रीटमेंट ग्रुप को मैसेज सामाजिक ढंग से दिया जायेगा उसमे उत्तरदाताओं को पर्चे देने के साथ साथ लाउडस्पीकर के जरिये भी सचेत किया जायेगा। लोकल-सूचना ट्रीटमेंट ग्रुप के वोटरों को नगरपालिका में सत्ताधारी पार्टी के बारे में जानकारी दिया जायेगा, जबकि  रिलेटिव-सूचना ट्रीटमेंट ग्रुप के वोटरों को नगरपालिका में सत्ताधारी पार्टी के साथ साथ विपक्षी पार्टी के बारे में भी जानकारी दिया जायेगा। 

प्रकल्पना :
  • वोटर ख़राब प्रदर्शन के लिए सत्तारधारी पार्टी को ज्यादा दण्डित करेंगे अगर उन्हें निजी ढंग के बजाय अगर सामाजिक ढंग से मैसेज दिया जाये। 
  • वोटर ख़राब प्रदर्शन के लिए सत्तारधारी पार्टी को ज्यादा दण्डित करेंगे: (a) अगर उन्हें जानकारी दी जाये कि विपक्षी पार्टी के नेताओ का प्रदर्शन अच्छा था; (b) अगर उन्हें जानकारी दी जाये कि उनके अपने नेता का प्रदर्शन सत्ताधारी पार्टी के प्रदर्शन से ख़राब था; (c) मैसेज A और B का मेल
  •  इन परिणामों की मजबूती इस बात पर निर्भर करेगी की वोटरों का पूर्वानुमान क्या है और किस हद तक वो भरोसा करते है कि उमीदवारों का आपस में और पार्टियों के साथ क्या रिश्ता है।