EGAP  पंजीकरण, शासन एवं राजनीति में प्रयोग व पर्यवेक्षण शोध की डिज़ाइनों पर ध्यान देता है. किसी डिज़ाइन का पंजीकरण करने के लिए कृपया नीचे लिखे दिशा निर्देशों को पढ़ें.

  • समयांकन ( टाइमस्टाम्प )- पंजीकरण उपकरण को पूर्ण रूप से भरें. यह आपके निवेदन/ प्रस्तुति  के लिए स्वतः ही एक समयांकन प्रदान करेगा. प्रारम्भिक प्रविष्टि के बाद, प्रत्येक प्राप्त दस्तावेज़ अपना एक समयांकन प्राप्त करेगा.
  • पहचानकर्ता (आइडेंटिफायर) – जब आपकी प्रारम्भिक प्रस्तुति होगी, तो आपका एक विशिष्ट प्रोजेक्ट पह्चानकर्ता होगा. उसके बाद के सभी संशोधन एवं परिशिष्ट इसी पहचानकर्ता से जोड़े जायेंगे. पहचानकर्ता का YYYYDDMMAA प्रारूप होता है. पहले के ८ अंक पहली प्रविष्टि की तारीख देते हैं ( उदाहरणार्थ-२०१५०२१४ ). बाद के दो अंक इस शोध के विशिष्ट पह्चानकर्ता होते हैं. यदि आपका शोध उस तारीख पर जमा होने वाली पहली प्रविष्टि है तो उसका पहचानकर्ता होगा ‘AA’. अगर यह उस दिन की दूसरी प्रविष्टि है, तो उसे ‘AB’ मिलेगा. इसी तरह आगे का क्रम भी रहेगा.
  • अनामिकता ( अनोनिमिटी) –सेक्शन ‘सी’ के प्रत्येक क्षेत्र में  शोधकर्ता  और संस्था के बारे में  नाम रहित जानकारी होगी. हम आपके पंजीकरण को अपनी पहचान जानने के लिए एक आवरण पृष्ठ देंगे.
  • गेटिंग – पंजीकरण फॉर्म में एक क्षेत्र गेटिंग ( प्रवेश द्वार के रूप में उपकरण ,जो खोला और बंद किया जा सकता है) आपके प्रोजेक्ट की जानकारी के लिए होता है. हम आपको सलाह देते हैं कि आप पंजीकरण  की  गेटिंग न करवाएं, हालांकि हम जानते हैं कि कभी कभी यह आवश्यक होता है. फिर भी, यदि आप अपने पंजीकरण के लिए गेटिंग का चुनाव करते हैं, तो कृपया वह तारीख  भी दें जब आप गेटिंग हटाना चाहते हैं.( यह पंजीकरण के बाद १८ महीने के भीतर होना चाहिए). आपका गेटेड पंजीकरण उस साईट पर एक ID  पहचानपत्र, शीर्षक, लेखक के नाम के साथ आएगा,परन्तु बाकी की जानकारी साईट पर नहीं दिखेगी ( परन्तु जो लोग पंजीकरण के विशिष्ट भाग का URL जानते हैं , वे इसे देख सकते हैं). फिर हम दी गई तारिख पर पंजीकरण की जानकारी और विश्लेष्ण पूर्व प्लान को जनता के सामने रख देंगे. ऐसा करते समय हम आपसे सम्पर्क नहीं करेंगे. यदि आपको प्रोजेक्ट जमा करने के बाद लगता है कि आपको अपनी गेटिंग की तारीख बदलनी है, अथवा किसी अपरिहार्य कारणवश आप सामान्य १८ महीने की अधिकतम समय सीमा को आगे बढ़ाना चाहते हैं, तो   कृपया paps@egap.org पर  सम्पर्क करें. पूर्व पंजीकरण समिति आपके प्रत्येक विस्तार के निवेदन का केस दर केस आधार पर मूल्यान्कन करेगी. 
  • अधिकारपत्र: पंजीकरण से आप यह सुनिश्चित करते हैं कि आपके पास लोगों के लिए पंजीकृत सामग्री को जारी करने का अधिकार है. इसका तात्पर्य यह है कि आपका इस सामग्री पर कॉपीराइट अधिकार है, और इसके लिए सभी सह लेखकों ने डिज़ाइन के पंजीकरण करते समय स्वीकृति दी है.
  • अतिरिक्त दस्तावेज़ीकरण- इस फॉर्म में सबसे नीचे एक रिक्त स्थान  होता है जहाँ पर आप अपने पंजीकरण में अतिरिक्त दस्तावेज़ संलग्न कर सकते हैं.  कई बार लेखकों को लगता है कि उनका विश्लेष्ण प्लान ऑनलाइन पर दिए गए विश्लेष्ण से थोडा और विस्तृत होना चाहिए, तो वे इस जानकारी को पूर्व विश्लेष्ण प्लान के रूप में पोस्ट कर सकते हैं. फिलहाल तो हमारे पास विश्लेष्ण पूर्व प्लान का कोई प्रारूप नहीं है, फिर भी सामान्यत: प्लान को सभी क्षेत्रों में पूरी जानकारी देना आवश्यक है. साथ ही इसमें विश्लेष्ण प्रक्रिया की भी  विस्तृत जानकारी दी जानी चाहिए. जहाँ तक फॉर्म के सेक्शन ‘सी’ का प्रश्न है, आपके  विश्लेष्ण पूर्व फॉर्म में नाम रहित भाषा का प्रयोग होना चाहिए. शोधकर्ताओं संबंधित सारी जानकारी जैसे-नाम, पद, सम्पर्क जानकारी, यहाँ  न देकर मुख्य पृष्ठ पर दी जायेगी. इसके साथ  ही आप संलग्न क्षेत्र का प्रयोग आपके द्वारा डाटा इक्ठटा करने में प्रयुक्त सर्वेक्षण उपकरण, डाटा एवं विश्लेष्ण के लिए प्रयुक्त कोड और आपके प्रोजेक्ट के लिए आवश्यक  कोई अन्य दस्तावेज़ इत्यादि के लिए कर सकते हैं.
  • पुष्टिकरण – आपके पंजीकरण की पुष्टि आपको तीन कारोबारी दिनों के भीतर मिल जायेगी. पंजीकरण की पुष्टि और उसे पोस्ट  करने के लिए फॉर्म का प्रत्येक क्षेत्र भरा होना चाहिये. आपका पंजीकरण तभी पूर्ण माना जाएगा, जब आपको उसका  पुष्टिकरण  मिलेगा. यदि आपको तीन कारोबारी दिनों के भीतर पुष्टिकरण नहीं मिलता है तो कृपया paps@egap.org पर सम्पर्क करें 
  • उद्धृत करना- जब आप किसी लेख में अपने पंजीकरण को उद्धृत करते हैं तो आपकी अपनी विशिष्ट ID पहचान ( जो कि ऊपर दिए नंबर – YYYYMMDDAA है ) पंजीकरण के लिए देनी होगी.  इससे आप पंजीकरण से सम्बन्धित सभी चीज़ों तक पहुँच सकते हैं. यहाँ तक कि आपके द्वारा किये गए सुधार भी इसमें शामिल कर सकते हैं. पंजीकरण के उद्धरण में ये दोनों बातें बताना चाहिए: –अ) कौन कौन से विश्लेष्ण पंजीकृत हैं.-ब) पंजीकृत डिज़ाइन में किये गए परिवर्तन कौन से हैं. 
  • प्रति संदर्भ – कभी कभी पंजीकृत लोग फॉर्म भरते समय संलग्न दस्तावेजों का संदर्भ भी देते हैं ( उदाहरण के लिए यदि आप चाहते हैं कि पाठक गण किसी विशेष तथ्य को विस्तार से समझने के लिए विश्लेष्ण पूर्व प्लान को देखें) ऐसे  में उस जानकारी के बारे में दस्तावेज़ का नाम ही नहीं वरन उस विशिष्ट पृष्ठ  का नंबर,  लाइन के नंबर के साथ दें. 
  • निगरानी व जांच (मोनिटरिंग ) EGAP प्रत्येक पंजीकृत उद्धरण की जांच करता है और अपनी नीति के तहत पत्रिकाओं को उन  स्थितियों में सूचित करता है –-अ) जब  लेख में EGAP में पंजीकृत होने का दावा हो, जबकि उसका पंजोकरण नहीं हुआ हो.-बी) जब पंजीकृत डिज़ाइन और उसके अंतिम विश्लेष्ण में बहुत अंतर हो, जिसका वर्णन लेखकों ने नहीं किया हो.
  • बहु शोध पत्र शोध का पंजीकरण – अगर आप ऐसी शोध कर रहे हैं जिसके परिणामस्वरूप  बहुत से शोध पत्र होंगे, तो उस शोध से सम्बन्धित हर चीज़ का एक साथ पंजीकरण करें.  ऐसा करने के लिए शोध के प्रत्येक पेपर के लिए पंजीकरण फॉर्म जमा करें (इसके साथ PAP और प्रत्येक दस्तावेज़ संलग्न करें), साथ ही प्रत्येक के लिये शीर्षक  भी दें यह बताते हुए कि प्रत्येक पंजीकरण एक विस्तृत शोध  का ही  भाग है. अगर आपको किसी भी चीज़ के बारे में कोई शंका  या प्रश्न  हो तो कृपया  paps@egap.org पर संपर्क करें.