EGAP प्रधान शोधकर्ता: Claire Adida, Jessica Gottlieb, Eric Kramon, Gwyneth McClendon
स्थान : बेनिन

Registration: 20150308AA

हस्तक्षेप करने की तारीख : फ़रवरी - मार्च 2015 (नेशनल असेंबली चुनाव, मार्च 31 2015)

पृष्ठभूमि: इस प्रोजेक्ट के जरिये बेनिन के नागरिकों को दो चीजें बदलते हुए विधायको (legislator) के कामकाज के बारे में जानकारी दी जाएगी - (1 ) वोटरों के हित में जानकारी की अहमियत, और (2 ) विधायको (legislator) के कामकाज के बारे में जानकारी निजी रूप से दी गयी या फिर ग्रुप में।

रिसर्च डिज़ाइन: रैंडम पद्धति से चुने गए कुछ नागरिकों को  विधायको (legislator) के कामकाज के बारे में जानकारी निजी रूप से दी जाएगी और कुछ और नागरिकों को रैंडम पद्धति से चुनकर उन्हें यह जानकारी सामूहिक रूप से दी जाएगी।  इसके अलावा रैंडम पद्धति से चुने गए कुछ नागरिकों को विधायको  के कामकाज के साथ एक "सिविक मैसेज" दिया जायेगा जिसमे उदाहरणों की मदद से यह बताया जायेगा की विधायकों की  जननिगरानी से आम जनता का भला होगा। बाकी लोगों को सिर्फ विधायको  के कामकाज के बारे में बताया जायेगा।  कंट्रोल ग्रुप के गावों में कोई जानकारी नहीं दी जाएगी।  बाद में ट्रीटमेंट ग्रुप के उत्तरदाताओं के मतदान व्यव्हार की तुलना कंट्रोल ग्रुप के उत्तरदाताओं से की जाएगी।

प्रकल्पना :
  • जिन क्षेत्रों में विधायको  के कामकाज के बारे में जानकारी कम है वहां पर सूचना देने से व्यक्तिगत और गावं के लेवल पर मतदान व्यव्हार पर असर पड़ेगा।  
  • अगर लोगों को तर्क देकर बताया जाये की कैसे विधायको का कामकाज जनहित से जुड़ा हुआ है तो ये जानकारी मतदान व्यव्हार पर ज्यादा असर करेगी। 
  • अगर लोगों को यह बताया जाये कि अन्य नागरिक भी विधायको के कामकाज पर वोट करते है तो सामूहिक रूप से जानकारी देने का मतदान व्यव्हार पर ज्यादा असर रहेगा बजाय निजी रूप से जानकारी देने के। 
  • "सिविक मैसेज" ट्रीटमेंट का असर सिर्फ विधायको  के कामकाज के बारे में जानकारी देने से ज्यादा होगा।